रविवार, 24 सितम्बर 2023

स्व की पहचान के आधार पर ही होगा राष्ट्र निर्माण : सुरेश भैयाजी जोशी

स्व की पहचान के आधार पर ही होगा राष्ट्र निर्माण : सुरेश भैयाजी जोशी
Share This Page :

महिला समन्वय, भोपाल विभाग के शक्ति समागम में 2000 से अधिक मातृशक्ति ने की सहभागिता
भोपाल। अपने ‘स्व’को पहचानें। ‘स्व’ को जितना हम जानेंगे उसके आधार पर ही राष्ट्र निर्माण में हम अपनी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन करने के लिए सिद्ध हो सकेंगे। यह बात राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य एवं महिला समन्वय के अखिल भारतीय पालक अधिकारी सुरेश उपाख्य भैयाजी जोशी ने महिला समन्वय, भोपाल विभाग द्वारा पीपुल्स मॉल में आयोजित ‘’शक्ति समागम’सम्मलेन में मातृशक्ति को संबोधित करते हुए कही। वे देश को विकास के पथ पर ले जाने के लिए मातृशक्ति की सहभागिता सुनिश्चित करने के लिए उनकी भूमिका पर बोल रहे थे। 
         उन्होंने कहा कि पूर्व के कालखंड में महिलाओं ने समाज को बलशाली करने बेहतर कार्य किया है, लेकिन बीच के आक्रमण काल में सुरक्षा के कारण कुछ बंधन आ गए। जिसके कारण स्वभाव बन गया कि बहनों का काम घर के काम तक ही सीमित है, परंतु यह कालखंड अब नहीं रहा। आज पुरुष जो काम कर सकते हैं वो महिलाएं भी कर सकती हैं। सीमाओं में बंधे नहीं। जहां हैं वहीं से राष्ट्र निर्माण में बेहतर तरीके से अपनी भूमिका का निर्वहन करें क्योंकि समाज के उत्थान में सभी की भूमिका रहती है। उन्होंने उद्योग जगत, सामाजिक नेतृत्व, राजनीति, सेना, वैज्ञानिक सभी क्षेत्र में महिलाओं के बेहतर करने की विस्तृत चर्चा की। उन्होंने शंकुतला द्वारा निभाई माँ की भूमिका, रानी अहिल्या बाई होलकर की आदर्श राज्य व्यवस्था बनाने, झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई द्वारा अकेले महिलाओं की फौज तैयार करने, कल्पना चावला द्वारा वैश्विक मंच पर भारत को आगे बढ़ाने की बात पर प्रकाश डाला। उन्होंने देश को विकास की राह पर लाने के लिए महिलाओं से ‘स्व’को पहचानकर कार्य करने की बात कही। साथ ही जीवन को संस्कारित बनाकर परंपराओं को नई दिशा देने की बात पर भी जोर दिया। इस मौके पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मध्यक्षेत्र के सह क्षेत्र कार्यवाह हेमंत मुक्तिबोध, महिला सम्मलेन शक्ति समागम की प्रान्त संयोजिका डॉ सुनंदा सिंह रघुवंशी, विभाग संयोजिका कुसुम सिंह उपस्थित थे। मंच संचालन डॉ वंदना गांधी ने किया। कार्यक्रम का आभार कुसुम सिंह व्यक्त किया। तीन सत्रों में आयोजित हुए इस कार्यक्रम में 2000 से अधिक की संख्या में समाज के सभी वर्गों की  मातृशक्ति ने सहभागिता की। इस दौरान विभिन्न विषयों पर ज्ञानवर्धक उध्बोधन के साथ कार्यक्रम में सांस्कृतिक प्रस्तुतियों, गीत इत्यादि का भी आयोजन किया गया। 

खास खबर
...
मौसम विभाग की चेतावनी, कहीं वज्रपात तो कहीं भारी बारिश
बुधवार, 19 जुलाई 2023
...
स्मार्ट सिटी के परियोजनाओं को पूर्ण करने के लिए अब अतिरिक्त कोई भी एक्सटेन्शन प्रदान नहीं किया जायेगा - कलेक्टर
बुधवार, 17 मई 2023
...
रानीताल तालाब के सौन्दर्यीकरण कार्यो का किया गया निरीक्षण
बुधवार, 17 मई 2023
...
चुनावी तैयारियां शुरू, 20 मई को भोपाल में आयोग की बड़ी बैठक
बुधवार, 17 मई 2023
...
युवाओं को रोजगार के लिए प्रशिक्षण के साथ मिलेगा स्टाइपेंड
बुधवार, 17 मई 2023
...
प्रकृति का पल-पल परिवर्तित रूप सौन्दर्य पूर्ण, हृदयाकर्षक और उललासमय
बुधवार, 17 मई 2023
...
ग्रामीणों ने उठाया कुआं की सफाई का जिम्मा
सोमवार, 17 अप्रैल 2023
...
श्याम बंसल उज्जैन, तो अशोक पोरवाल रतलाम विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष नियुक्त
सोमवार, 17 अप्रैल 2023
...
मध्यप्रदेश के कर्मचारी फिर से सड़क उतरे
सोमवार, 17 अप्रैल 2023
...
आईपी स्कूल मुलताई में वार्षिकोत्सव "सृजन" सोल्लास संपन्न
सोमवार, 17 अप्रैल 2023